Ek baar kaho tum meri ho | Love Poetry | Ibn-e-Insha | Rekhta Studio


एक बार कहो तुम मेरी हो इब्न-ए-इंशा हम घूम चुके बस्ती बन में इक आस की फाँस लिए मन में कोई साजन हो कोई प्यारा हो कोई दीपक हो, कोई तारा हो जब जीवन रात अँधेरी हो इक बार कहो तुम मेरी हो जब सावन बादल छाए हों जब फागुन…