Daagh Dehlvi Poetry | Couplets by great poet Daagh Dehlvi | Literature

27 thoughts on “Daagh Dehlvi Poetry | Couplets by great poet Daagh Dehlvi | Literature

  1. Bhai daag sahab ka ek sher mujhe yaad aa rha h
    "Naha kr jamuna me jb usne apne baal bandhe
    Hamare dil ne bhi n jaane kya kya khayal bandhe"

  2. भारत के इस्लाम समाज में शेर और शायरी को ज्यो सम्मान प्राप्त है, वह इस समाज के पतन का कारण है। काम-धंधा और नौकरी करने वाले को अगर समाज में सम्मान नहीं है, तो समाज पिछड़ता जाएगा। संभल जाइए।

  3. में अपने शेर आपको सेंड करना चाहूंगी मेल आई डी क्या है आपकी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *